main masti de vich nacha nachawa nandlal nu

मैं मस्ती दे विच नचा नचावा नंदलाल नु
नचावा नंदलाल नु नचावा मदन गोपाल नु

मोर मुकुट तो सदके जावा
अपने हिरदय विच वसावा
मैं नटवर दीन दयाल नु नचावा नंदलाल नु
मैं मस्ती……..

मुरली तू केह्डा पुन किता
हर दम होटा दा रस पिता
पिलावा लाल गोपाल नु नचावा नंदलाल नु
मैं मस्ती…….

अपने सुते भाग जगावा
चूम चूम मथे दे नाल लगावा
तेरे गल बैजन्ती माल नु नचावा नंदलाल नु
मैं मस्ती……..

चरना दी चांजर एह कहन्दी
हरि नाम दी ला लई मेहंदी
होजा तू लालो लाल तू नचावा नंदलाल नु
मैं मस्ती……..

पिला है पेतम्बर तेरा
लुटके ले गया दिल ओह मेरा
कदे ना पुछेया हाल नु नचावा नंदलाल नु
मैं मस्ती…..

Leave a Comment