मधुबन गाय चरावत कान्हा:

मधुबन गाय चरावत कान्हा,
मोर मुकुट पीत बसन मुरलिया,
कोटि सत काम लजावत कान्हा,
मधुबन गाय चरावत कान्हा——

खेलत कूदत बंशीवट छैयां,
संग ग्वालन धूम मचावत कान्हा,
मधुबन गाय चरावत कान्हा——

धन्य धन्य बड़ भागी गइयन,
मुरली मधुर सुनावत कान्हा,
मधुबन गाय चरावत कान्हा—–

ग्वाल बाल संग धूरि उड़ावत,
सांझ परे घर आवत कान्हा,
मधुबन गाय चरावत कान्हा—–

मातु चुमत मुख लेत बलैया,
सुर मुनि हियँ हर्षावत कान्हा,
मधुबन गाय चरावत कान्हा—–।।

Leave a Reply