माँ तुम आओ सिंह की सवार बनकर
माँ तुम आओ रंगो की फुहार बनकर

माँ तुम आओ पुष्पों की बहार बनकर
माँ तुम आओ सुहागन का श्रृंगार बनकर

माँ तुम आओ खुशीयाँ अपार बनकर
माँ तुम आओ रसोई में प्रसाद बनकर

माँ तुम आओ रिश्तो में प्यार बनकर
माँ तुम आओ बच्चो का दुलार बनकर

माँ तुम आओ व्यापार में लाभ बनकर
माँ तुम आओ समाज में संस्कार बनकर

माँ तुम आओ सिर्फ तुम आओ
क्योंकि तुम्हारे आने से ये

सारे सुख खुद ही चले आयेगें
तुम्हारे दास बनकर माँ

माँ तुम आओ सिंह की सवार बनकर
माँ तुम आओ रंगो की फुहार बनकर

दुर्गा भजन

Leave a Reply