maa meri aawegi kehde rute

ओ मावा जीओन जिह्ना दियां जग ते ,
जनत आप तुर घर आवे,
ओ मावा थी सरदारी दो जग अंदर,
पर जो समजे सो पावे,
ओ सड गये लेख मैं उजड़े देखे,
जिह्ना नु रोजी वतन छुडावे,
हथी तोर के पुत्रा नु ओये रबा,
माँ न किसे दी मर जावे,

नि माँ मेरी आवेंगी केहड़ी रुते,
कमली वाल्डीया कर्म कमाई,
ओ माँ मेरी नु फेर मिलावी ,
करके रहमत उते,
नि माँ मेरी आवेंगी केहड़ी रुते,

मावा ते पुत्रा दा शाक अनोखा,
पूछ लै भावे सब तो ओ साईं लोका,
कमली वाल्डीया कर्म कमाई,
ओ माँ मेरी नु फेर मिलावी ,
माँ बिना कोई बात ना पूछे,
नि माँ मेरी आवेंगी केहड़ी रुते,

ओह देखो माँ ने कैसा भाग लगाया,
भर भर मश्का आपे पानी पिआया,
कमली वाल्डीया कर्म कमाई,
ओ माँ मेरी नु फेर मिलावी ,
लाया बूटा माँ दा ना सुके
नि माँ मेरी आवेंगी केहड़ी रुते,

माये नि ईदा शबराता आइया,
घर घर लोका वेख खुशियाँ मनाईया,
कमली वाल्डीया कर्म कमाई,
ओ माँ मेरी नु फेर मिलावी ,
ख़ुशी थेवे साड़े तो ने रूसे,
नि माँ मेरी आवेंगी केहड़ी रुते,

Leave a Comment