लै आईया वृन्दावन तो मैं लड्डू लै आईया,

नाले मीठा नाले सोहना,
रूप में ऐहंदे किता टोना,
मैं बार बार बलिहार लड्डू लै आई आ,
लै आईया वृन्दावन तो मैं लड्डू लै आईया

भगति करके जगे ज्योति,
नाम दे चुन लो सुचे मोती,
सांवरियां सरकार मैं लड्डू लै आई आ
लै आईया वृन्दावन तो मैं लड्डू लै आईया

गिरिराज मेरे गोपाल जी,
गोपाली पागल दे नाल जी,
करके इस नाल प्यार मैं लड्डू लै आई आ,
लै आईया वृन्दावन तो मैं लड्डू लै आईया

Leave a Reply