एह पाली माता रत्नों दा,
किना ऐ प्यारा लगदा,
एह मन मेरा मस्त होया,
वेख वेख नहियो रजदा,
एह पाली माता ….

गल विच माला सोह्न्व्दी,
कना विच पाया मुंद्रा,
एह काकियाँ बंवारियां,
मथे ते तिलक सजदा,
एह पाली ममाता ….

नैना विच नशा नाम दा,
पैरा विच पुये पांवदा,
धनभाग पथरा दे,
जिह्ना ते चरण रखदा ,
एह पाली माता …..

सोहना ओहदा मुख वेख के,
चन ने भी पाइयां निवियाँ,
ऐ देवते जयकारे बोलदे,
आ गया अवतार रब दा,
एह पाली माता …..

Leave a Reply