खाली हाथ तो आया हु पर खाली हाथ न जाऊगा
जो सुनी न तुमने साईं मेरी मैं मर जाऊँगा
खाली हाथ तो आया हु पर खाली हाथ न जाऊगा

मैं जुबा से क्या बतलाऊ तुम जानो सब अफसाना
अपना इस जग में कोई में हर शक्श है बेगाना
जो नजर हो साईं मुझपे झोली भर ले जाऊँगा
खाली हाथ तो आया हु पर खाली हाथ न जाऊगा

तुम को है मालूम मेरी क्या तकलीफे मेरे साईं
जिस को अपना समजा जग में निकला वो हरजाई
शरण तुम्हारी मिली तो मैं ये भाग जगाऊगा,
खाली हाथ तो आया हु पर खाली हाथ न जाऊगा

दीदार तुम्हारा जिस को हो वो तो है किस्मत वाला
उस के जीवन में साईं हो चारो और उजाला
जो करी न साईं मिल किस दर जाउगा
खाली हाथ तो आया हु पर खाली हाथ न जाऊगा

साईं भजन