कदे एह दर भटका कदे ओह दर भटका,
योगी ला चरना दे नाल,
दुनिया नु दुखड़े मैं की सुनावा,
जी तू भी न सुने मेरे नाथ,

कदे सुनिया नु दुखड़ा मेरा एहना केहड़ा कम पे गया,
कदे पाया नहियो घर वाला फेरा एहना केहड़ा कम पे गया,

मैं ता सुनिया जोगी दिला दिया जान दा,
कदे सुनिया न दुखड़ा मेरा, एहना केहड़ा कम पे गया

मैं ता सुनिया जोगी वड़ा ललारी है,
गध रंगियां नहीं जूपता मेरा,
एहना केहड़ा कम पे गया

मैं ता सुनिया जोगी बड़ा हकीम है,
कदे किता न इजाज तुसी मेरा,
एहना केहड़ा कम पे गया

Leave a Reply