जोगिया वे जोगिया तेरे दरबार वाली.
किनी सोहनी लगदी सवेर,
स्वरगा च रहन वाले देवते भी मंगदे ने,
बाबा तेरे मंदिरा दी सैर,
जोगिया वे जोगिया…..
जोगिया वे जोगिया
तेरी जोगन हो गई आ,

जिंदगी जीउन दियां देंदियाँ जो साहा सहनु,
चुमन हवावा तेरे पैर,
अंबरा दे विच चन चाननी खिलारे जदों,
झोली अड़ मंगे तेथो खैर,
जोगिया वे जोगिया वे जोगियां,
वे जोगियां वे जोगियां ,
जोगियां वे जोगियां वे जोगियां,
तेरी जोगन हो गई आ

तेरी ही रजा दे विच चलदी ऐ पौनाहारी,
सागरा समुन्दरा दी लहर,
समे वाली चाल जेह्डी रोकेया न रुके कदे,
रजा विच जांदी ओह भी ठहर,
जोगिया वे जोगिया वे जोगियां,
वे जोगियां वे जोगियां ,
जोगियां वे जोगियां वे जोगियां,
तेरी जोगन हो गई आ

तुहियो ही पहुचावे अन पथरा च कीडिया नु,
होर केहडा तेरे तो वगैर,
कागजा दे फुला च सुगंधा पाउन वाले बाबा,
धोये धोये पीवा तेरे पैर,
जोगिया वे जोगिया वे जोगियां,
वे जोगियां वे जोगियां ,
जोगियां वे जोगियां वे जोगियां,
तेरी जोगन हो गई आ

चोहा कुनटा विच तेरी हॉवे जय जैकार बाबा,
हुंदियां सलामा आठो पहर,
पल दा विछोडा सह जाना ना सरोये कोलो,
ढाहवी ना जुदाइयां वाला कहर,
जोगिया वे जोगिया वे जोगियां,
वे जोगियां वे जोगियां ,
जोगियां वे जोगियां वे जोगियां,
तेरी जोगन हो गई आ

Leave a Reply