jithe ambe maa di jyot jagdi othe bhgta de bhaag jag de

जिथे अम्बे माँ दी ज्योत जगदी ओथे भगता दे भाग जग दे,
कर हार शृंगार मैया जागे विच तुरदी रूह नाल झांझरा दी छन छन सुंदी,
जो लाल लाल झूम दे हवा वा विच तेरे झंडे किने सोहने लगदे,
जिथे अम्बे माँ दी ज्योत जगदी ओथे भगता दे भाग जग दे,

भेद तेरे करमा दा किसे ने नहीं पाया माये,
हसदा ओह जांदा जेहड़ा रौंदा होया आया माये,
तेरी रेहमत दे सदका दातिये पानी उचेया नू बहग दे,
जिथे अम्बे माँ दी ज्योत जगदी ओथे भगता दे भाग जग दे,

मैनु काग नू रंगीन बनाये सुट्टे होये भागा नू तू आप जगाया माये,
ओह्दी किस्मत बदल दी देखि जो तनु दिल विच रखदे,
जिथे अम्बे माँ दी ज्योत जगदी ओथे भगता दे भाग जग दे,

उचियाँ पहाड़ा विच सोहना दरबार माँ दा,
लगदा प्यारा बड़ा हार ते शृंगार माँ दा,
सोहनी सूरत नू तक के दातिये भगता दे दिल नहियो रज दे,
जिथे अम्बे माँ दी ज्योत जगदी ओथे भगता दे भाग जग दे,

Leave a Comment