jihde kol behan to jg dar da

जीहदे कॉल बेहन तो जग डर दा ओहदे घर विच रोनका तू लावे,
जह्नु औरत भी न कोई आखे माँ उस नु कहावे,
जीहदे कॉल बेहन तो जग डर दा

बोली विच जो इशनान करे,
सिर ऊंचा कर दुनिया ते फिरे,
ओह्दी जिंदगी माने खुशिया नु,
बैठे उस बुट्टे दी छावे,
जीहदे कॉल बेहन तो जग डर दा

बे आसे आस ओ ले जंडे जिद्दी झोली विच फल पे जांदे,
भवे पतझड़ छाई हॉवे खिड़ पेंदे फूल जे तू चावे ,
जीहदे कॉल बेहन तो जग डर दा

सिद्ध जोगियां दा सर मान है बावा लाल तनु वरदान है एह,
या रब या तू ही कर सकदा अनहोनी होनी हो जावे,
जीहदे कॉल बेहन तो जग डर दा

बोली दा पानी अमृत है इस दे विच तेरी रेहमत है,
सुख देव बरस ती है सबते तू देर लगाइ न नाले,
जीहदे कॉल बेहन तो जग डर दा

कृष्ण भजन

Leave a Comment