jholi bhar de meri jogiyan jholi bhar de meri

झोली भर दे मेरी जोगियां झोली भर दे मेरी,
दर दर दा ठुकराया जोगियां आया चरनी तेरी,
झोली भर दे मेरी जोगियां झोली भर दे मेरी,

माँ रतनो दे लाल प्यारे तेरे जग ते खेल निराले,
जो भी आंदा तेरे द्वारे कहन्दे ने जग वाले सारे,
लखा ले गये झोली भर के मेरी वारि क्यों देरी,
झोली भर दे मेरी जोगियां झोली भर दे मेरी,

पिंड मैं समपुर खुरग दे अंदर बाबा जी ते कर्म कमाया,
चेत महीने दर जो आया जोगी उसदा भाग जगाया,
जिस ते किरपा किती बाबे ने कट गई रात हनेरी,
झोली भर दे मेरी जोगियां झोली भर दे मेरी,

दर तेरे ते नाज है मैनु दिल च वसाया जोगियां तनु,
कपिल ते किरपा करदे बाबा मेहरा दा हाथ धरदे बाबा,
तेरा द्वारा छड़ के जोगियां दस मला था केहड़ी,
झोली भर दे मेरी जोगियां झोली भर दे मेरी,

बाबा बालक नाथ भजन