रूलदा रहे जी जेह्डा भुलदा रहे,
भुलदा रहे जी ओह रुल्दा रहे,
रुल्दा रहे जी जेह्डा बुलदा रहे,
जी झंडा मईयां दे द्वारे उते झुल्दा रहे,
जी झंडा मइया दे…

झंडा माइयां दे भवन दी है शान जी,
वेख झंडा छु के आउंदा असमान जी,
मइयां साड़ी भी तू सुन ले पुकार जी,
मैं भी झंडा ले के आया दरबार जी,
इथे पार हुंदा बेडा सारे कुल दा रहे,
जी झंडा मइयां दे द्वारे उते झुल्दा रहे,
झंडा मईया दे द्वारे उत्ते….

एह जो दुनियां भी झंडे रंग रंग दे,
एह ने मोह माया झूठ ते पाखंड दे,
काम क्रोध मोह लोभ ते हंकार दे,
सदा झुल्दे न रेहन संसार ते,
तेरे झंडे अगे कोडी दा ना मूल दा रहे,
झंडा मईया दे द्वारे उत्ते…

झंडा सेवक जो भवन ते लाया जी,
सोहनी मइयां जी दी शान नु वधाए जी,
गल सच है स्यानियाँ दी सो गुना,
दिल दुगना ते रात ओहदी चोगना,
ओहदी मेहर नाल भगत दाती फुलदा रहे,
झंडा मईया दे द्वारे उत्ते …

दास मइयां दा करी मन च ध्यान बाई,
जेह्डी संगता ने किती है व्यान बाई,
जेह्डा मंगे वर दाती कोलो आ के जी,
जेह्ड़े पुझदे ने झंडे दर आ के जी,
ओह कखा वांगु कदे वी न रुल्दा रहे,
जी झंडा मइयां दे द्वारे सदा झुल्दा रहे

दुर्गा भजन