जेहड़ा छनमन छनमन भजदा एह चिमटा पौणाहारी दा,
जेहड़ा भगता दे हाथ सजदा एह चिमटा पौणाहारी दा,

इस चिमटे दी सिफत निराली,
चिमटे वाला गोआ दा पाली,
जेहड़ा सब दे दुखड़े हरदा,
एह चिमटा सिद्ध जोगी दा……

इस चिमटे दे रूप निराले,
इक धुनें दूजा भगत वजांदे,
जेहरा धुनें दे विच सजदा एह चिमटा कला करि दा,
जेहड़ा छनमन छनमन
भजदा एह चिमटा पौणाहारी दा,

इस चिमटे दी शान निराली,
भगता दी करदा रखवाली,
पूरियां मुरादा करदा
एह चिमटा बाबा बालक दा दा……

इस चिमटे दी अजब है माया
जिसदे सिर तो भी घुमाया,
भूत प्रेत भी नस्दा
एह चिमटा सिद्ध जोगी दा……

बाबा बालक नाथ भजन