jee karda main vekha mela chintapurni da

सोहन महीने लगेया मेला मंगल करनी दा,
जी करदा मैं वेखा मेला चिंतपूर्णी दा,

साल पीछो जद माँ दे दर ते मेला आउंदा है,
सारा आलम दर तेरे ते हाज़िरी लाउँदा है,
चढ़ दे जान चढ़ाइयाँ आसरा ले जग जननी दा,
जी करदा मैं वेखा मेला चिंतपूर्णी दा,

था था माँ दे भगता रल के लंगर लाये ने,
विच जंगल दे वेखो माँ ने मंगल लाये ने,
श्रदा दे नाल करदे सेवा कहन्दे चरनी ला,
जी करदा मैं वेखा मेला चिंतपूर्णी दा,

ज्योत मईया दी लगदी बड़ी प्यारी है,
तनु भी ओह तारु जिहने दुनिया तारी है,
सदा रहे अविनाश दे सिर हथ माँ मेरी महरा करनी दा,
जी करदा मैं वेखा मेला चिंतपूर्णी दा,

दुर्गा भजन