jayti jai gayatri maataa

जयति जय गायत्री माता तुम हो वेद पुराणों की ज्ञाता
सारे जगत में प्रकाश ज्ञान का तुमने ही तो फैलाया

सत्य सनातन रूप तुम्हारा हंसा तेरी सवारी
श्वेत शुध्द है वस्त्र तुम्हारे पुस्तक कमण्डल धारी
जो कोई ध्यान करे तुम्हारा दुःख और रोग निकट नहीं आये
मंत्र में तुम्हारी इतनी शक्ति अविद्या और पाप को भी भगाए
जयति जय —————

तुम्ही हो लक्ष्मी तुम्ही सरस्वती तुम्ही हो जग जननी भवानी
तुम्ही हो माता हर दिशा में तुमसे बढ़कर कौन जहाँ में
सारे गृह और नक्षत्र को तुमने ही गतिवान बनाया
तुमने ही ब्रह्माण्ड रचाया तुम्ही हो इसकी प्राण विधाता
जयति जय गायत्री माता

Leave a Comment