jali hai jyot jwala ki najara hum bhi dekhege najara bhi dekhege tum bhi dekhoge

जगी है ज्योत ज्वाला की नज़ारा हम भी देखेंगे
नज़ारा भी देखेंगे नज़ारा तुम भी देखोंगे

मैया के गले का हरवा मैया के पेंडल से उलझा
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है……

मैया से माथे का टिका मैया की बिंदी से उलझा
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है…..

मैया के हाथो के कंगन मैया की मेहँदी से उलझे
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है……

मैया के पैरो की पायल मैया के बिछुओ से उलझे
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है…..

ज़रा जोर से बोलो जय माता दी
मैनु नी सुण्या जय माता दी
अगले भी बोलो जय माता दी
यह ज्वाला मैया जय माता दी
दर ते आयी जय माता दी
झोलिया भर लो जय माता दी
माँ वैष्णो जय माता दी
बारहए भंडारे जय माता दी

दुर्गा भजन