जगी है ज्योत ज्वाला की नज़ारा हम भी देखेंगे
नज़ारा भी देखेंगे नज़ारा तुम भी देखोंगे

मैया के गले का हरवा मैया के पेंडल से उलझा
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है……

मैया से माथे का टिका मैया की बिंदी से उलझा
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है…..

मैया के हाथो के कंगन मैया की मेहँदी से उलझे
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है……

मैया के पैरो की पायल मैया के बिछुओ से उलझे
यह उलझन कैसे सुलझेगी नज़ारा हम भी देखेंगे
जगी है…..

ज़रा जोर से बोलो जय माता दी
मैनु नी सुण्या जय माता दी
अगले भी बोलो जय माता दी
यह ज्वाला मैया जय माता दी
दर ते आयी जय माता दी
झोलिया भर लो जय माता दी
माँ वैष्णो जय माता दी
बारहए भंडारे जय माता दी

दुर्गा भजन