jai baba balak nath ji

लाई बाबे ने फुला दी वरखा लाई,
फुला दी वरखा लाई बाबे ने,
फुला दी वरखा लाई
लाई बाबे ने…………

इस मिटी दा की कुझ बनदा,
मिटटी दा मंदिर बनाया बाबे ने,
मंदिर च धुना लाया बाबे ने,
लाई बाबे ने…………

मंदिर तेरे पौनाहारी ओ झंडे लाल लाल झुल्दे,
लाल झुल्दे ओ झंडे लाल झुल्दे,
मंदिर तेरे पौनाहारी दुधाधारी ओ झंडे,

भगत जो भी तेनु झंडे चड़ावे,
दर ते आ के जेह्ड़े शीश झुकावे,
ओहदी ते जींदडी संवारी ओ सुते होये भाग खुल्दे,
मंदिर तेरे पौनाहारी दे ………..

आ गया नि आ गया ग़ुआ वाला आ गया…..

कोई कहंदा ओहनू पौनाहारी,
कोई कहंदा ओहनू दुधाधारी,
कोई जटावा वाला हूँ आ गया ग़ुआ वाला

आ गया नि आ गया ग़ुआ वाला आ गया…..

संगता आई रहियां ओ जोगी प्यारे,
हो तेरे दुआरे हो,
रख हथ मेहरा वाला ओ जोगी प्यारे,
हो अपनियाँ भगता ते,
सबना दा रखवाला ओ जोगी चिमटेया वाला,
बड़ा ओ दयाल बाबा बालक नाथ जी.

दीन दुखियां जो जोगी दुखा जो हारदा जी,
करदा भगता दी ओ बाबा पूरी आस जी,
सबना दा रखवाला ओ जोगी चिमटेया वाला,
बड़ा ओह दयाल बाबा बालक नाथ जी,

जोगी दर्श दिखाई जा हो,
संगता जो इन प्यारियां भगता जो,
तेरे दर्शन करने नु जोगियां खड़ी है संगत सारी,
तू सबना दी सुन्दा है,
सिद्ध जोगियां मेरे पौनाहारी,
तू भव सागर तो पार दुनिया सारी तारी हो,

रतनो नी सुन रतनो रतनो नु सुन रतनो.
तेरियां गला दा मारेया,
की पौनाहारी जोगी हो गया,
हा पौनाहारी जोगी हो गया,
जोगी हो गया वैरागी हो गया,
रतनो नी सुन रतनो,

आटा ले हलवाई कोल जांदी आ,
हलवाईया वे सुन भाईयां,
इक मीठा जेहा रोट बना दे,
की पौनाहारी जोगी हो गया,
हां दुधाधारी जोगी हो गया,
जोगी हो गया वैरागी हो गया,
रतनो नि सुन रतनो

बाबा बालक नाथ भजन