jab jab bhi baba tumse naino se nain milaye naina mere bhar aaye

जब जब भी बाबा तुमसे नैनो से नैन मिलाये नैना मेरे भर आये,

याद करू मैं मेरा बीता ज़माना,
कोई नहीं था बाबा मेरा ठिकाना,
दर दर की लाखो मैंने ठोकर थी खाई,
किस्मत मेरी तेरे दर पे ले आयी,
बाहे फैला के मुझको अपने गले लगाये,
नैना मेरे भर आये……….

जिस दिन से थामा बाबा हाथ ये मेरा,
दूर हुआ जीवन का अँधेरा,
खुशिया ही खुशिया मेरे जीवन में आई,
संग संग में रहता मेरे जो परछाई,
जान गया कैसे तू हारे को जीत दिलाये,
नैना मेरे भर आये………

रिश्ता बनाया है तो साथ निभाना,
अपने बेटे को दिल से न भुलाना,
श्याम की बाबा बस यही तमाना,
किरपा तुम्हारी कभी मुझपे हो कम न,
दिल की ये बाते अपने दिलबर को जब बतलाये,
नैना मेरे भर आये,

Leave a Comment