मुश्किल में मैं जब भी पड़ा
बाहों में तूने मुझे भर लिया
सबने मुझे ठुकराया था
तूने मुझे अपना लिया
भटका फिरा मैं उम्र भर
फिर मिल गया तेरा ये दर
जबसे देखे हैं तेरे ये नयन
तबसे तेरे दीवाने हुए हम
बस थामे रखना हर कदम
तेरे बिन बाबा कुंभ भी नहीं हम
मेरे बाबा कार्डो ये करम
तुझे पूजे सातों ही जनम

जबसे तेरी मुझे मिल गयी है शरण
तबसे बदले हैं दिन और मेरे करम
जाने कैसे करें हम तेरा शुक्रिया
तूने एहसान कितना है मुझपे किया
बात दिल की मैंने ये की आगे है अब तेरी मर्ज़ी
तू मेहरबान रहना हर कदम
तुझे पूजे सातों ही जनम

Leave a Reply