ik mera shyam aapna sari duniya begani hai duniyavake kya jane yah ta reet purani hai

इक मेरा श्याम अपना सारी दुनिया बेगानी है
दुनियावाले क्या जाने यह ता रीत पुरानी है

आँखा विचो आयी लाली लोकि केन्दे इलाज करा
मैं ता केन्दी रेहन देआ मेरे श्याम दी निशानी है इक……

दिल मेरा होया जख्मी लोकि केन्दे इलाज करा
मैं ता केन्दी रेहन देआ मेरे श्याम दा बसेरा है इक……

कोठे उत्ते काह बोले लोकि केन्दे उड़ा देना
मैं ता केन्दी रेहन देआ मेरे श्याम जी ने आना है इक…..

इक वारि आजा श्यामा मेरा मेहमान बनके
मैं ता तन मन वार देआ मैं तो श्याम की दीवानी हूँ इक….

कृष्ण भजन