इक हार बणा सोहना नी में माई दे गल विच पावां,
बुहा खोल पुजारिया वे नी मैं माई दा दर्शन पावां,
इक हार बणा सोहणा………..

हाथ भगत दे गंगाजल लोटा ले मंदिर वल जावां,
बुहा खोल पूजारिया वे नी मैं माई ने स्नान करावां,
इक हार बणा सोहणा……………

हाथ भगत दे तिलक कटोरी ले मंदर वल जावां,
बुहा खोल पुजारिया वे नी मैं माई नु तिलक लगावां,
इक हार बणा सोहणा………..

हाथ भगत दे फूलां दा टोकरा ले मंदर वल जावां
बुहा खोल पुजारिया वे नी मैं माइ नू भेट चढ़ावा
इक हार बना सोहणा……….

हाथ भगत दे मोली दा कंगना ले मंदर वल जावां
बुहा खोल पूजारिया वे नई मैं माई दे अंग लगावां
इक हार बणा सोहणा………

हाथ भगत दे पान सुपारी ले मंदर वल जावां
बुहा खोल पूजारिया वे नी मैं माई नु भेंट चढ़ावां
इक हार बणा सोहणा नी……..

ले परिक्रमा मंदर चुफ़ेरे मंदर चुफ़ेरे तेरे मंदरा दे बेड़े
बुहा खोल पूजारिया वे नी मैं माई नू शिश झुकावां
इक हार बणा सोहणा…….

Leave a Reply