hun na todi shyama ve pyaar vali dor

हुन ना तोड़ी श्यामा वे, मेरे प्रेम वाली डोर,
ओ मेरे प्रेम वाली डोर,ओ साड़ी प्रेम वाली डोर,
हुन ना तोड़ी…..

तोडियां टुटदी टूट जांदी,ओ गल फेर ना रेहंदी,
तेरे चरणा दे विच बेहके,तेनु ऐह गल कहंदी.
किते बनी ना कठोर,तेरे बिना ना कोई होर,
हुन ना तोड़ी ….

तेरे प्रेम विच पागल हो गई,मैं तेरियां करा उडीका,
देखी किधरे तुर ना जावी,गाडीयां पाके प्रीता,
ऊ पावा उची उची शोर,मेरा चलदा ना कोई जोर,
हुन ना तोड़ी….

पा ले प्रीत तेरे नाम श्यामा, मैं तेरी जोगन होई,
हालत मेरी एसी होई, ना जौंदी ना मोई,
ओ किते दिल ना देवी तोड़,मेरी तेरे हाथ डोर
हुन ना तोड़ी…..

कृष्ण भजन

Leave a Comment