ho rahi dhan ki barsaat dekho ji dhanteras aai hai

हो रही धन की बरसात देखो जी धनतेरस आई है,
माता लक्ष्मी को संग लाइ घर घर में खुशाली छाई,
धनतेरस की महिमा सभी देवो ने गाई है,
हो रही धन की बरसात देखो जी धनतेरस आई है,

जिस घर आये लक्ष्मी माता,
लक्ष्मी माता हो लक्ष्मी माता,
वो घर तो कंचन हो जाता,
कंचन हो जाता, कंचन हो जाता,
खोल दिए भंडारे माँ ने खुशियां बरसाई है,
हो रही धन की बरसात देखो जी धनतेरस आई है,

इस दिन जो पूजा करता है,
पूजा करता है,पूजा करता है,
हर सुख से झोली भरता है,
झोली भरता है,झोली भरता है,
रहे सालो साल घर रोशन ये माता ने बात बताई है,
हो रही धन की बरसात देखो जी धनतेरस आई है,

रोली चावल से पूजा करलो,
पूजा करलो वंदना करलो,
फूल कमल का अर्पण करदो,
अर्पण करदो, अर्पण करदो,
उस घर में ना कमी कोई किसी बात की आई है,
हो रही धन की बरसात देखो जी धनतेरस आई है,

प्रेम सुमिर जरा ध्यान लगालो,
ध्यान लगा लो माँ का ध्यान लगा लो,
माता लक्ष्मी से सब कुछ पा लो,
सब कुछ पा लो सब कुछ पा लो
गिरी ने दिल में माँ के नाम की ज्योत जलाई है
हो रही धन की बरसात देखो जी धनतेरस आई है,

Leave a Comment