hame kewal aash tumhari sanwariya girdhari

हमें केवल आश तुमहारी सांवरियां गिरधारी,

कब से तुमको ढूँढ रही हूँ, ढूँढत ढूँढत हार गई हूँ,
अब अपना पता बताओ,सांवरियां गिरधारी ॥

मन मंदिर में घोर अँधेरा,दीप जले पर न रहे उजाला,
मेरे मन में जोत जलाओ, सांवरियां गिरधारी ॥

डगमग डोले मेरी नईया,तुम बिन मेरा कौन खिवईया,
मेरी नईया को पार लगाओ, सांवरियां गिरधारी ॥

वृंदावन की कुंज गलिन में,मथुरा की कुंजन की गली में,
अब इतना ना तरसाओ, सांवरियां गिरधारी ॥

Leave a Comment