हारे का जो साथी बनता है बाबा उसके साथ,
दीनो के दिल में रहे दीना नाथ,

बेसहारो का जो भी सहारा बना,
बाबा का वो ही तो प्यारा बना,
मजबूर की तुम मदत तो करो,
सिर पे तेरे होगा बाबा का हाथ,
हारे का जो साथी बनता है बाबा उसके साथ,

गिरते को कोई सम्बाले अगर बाबा सम्बाले उसे हर डगर,
बाहों में दीनो को भर लो जी तुम सवारे गा बाबा तेरी भी हर बात,
हारे का जो साथी बनता है बाबा उसके साथ,

तुम्हारे सुखो से सुखी हो कोई,
तुम्हारे दुखो से दुखी हो कोई,
चोखानी समजो जीवन ये ध्यन हुआ,
किरपा की तुमको मिलेगी सोगात,
हारे का जो साथी बनता है बाबा उसके साथ,

Leave a Reply