मणियाँ की नित असी बाबे नु धियाउंदे आ,
सदा दे के ओहनू घरे अपने भुलाउंदे हा,
खड़ा हुंदा आ के भगवान साड़े बूहे उते,
सोचदे आ हूँ की हजूर होना चाहिदा,
घर विच पौनाहारी नाथ दा.
आसन जररू होना चाहिदा,

आपने ता गद्दे झाड़ झाड़ के विछौन्दे आ,
बाबा जी वारी काहनू किनी कतराउंदे आ,
खड़ा हुंदा आ के भगवान साड़े भुहे उते,
सोचदे आ हूँ की हजूर होना चाहिदा,
घर विच पौनाहारी नाथ दा.
आसन जररू होना चाहिदा,

जिहदे उते जिमेवारी सारे ही जहान दी,
ओहनू वि ते लोड कदे पेंदी ऐ आराम दी ,
लोड सारी दुनियां नु ऐसे ही पैगाम दी,
नहियो किसे गल दा गरूर होना चाहिदा,
घर विच पौनाहारी नाथ दा…………..

सुचम वगैर सूखे पूजा दी अधूरी ऐ,
पाउनी जे खुदाई ता सफाई वी जरुरी ऐ,
ताहियो होनी बाबा जी दे घर मंजूरी ऐ,
सिदक यकीन भरपूर होना चाहिदा,
घर विच पौनाहारी नाथ दा…………..

एक गल होर मेरी दिलो न भुला देयो,
जन्म स्थान उते झंडा लहरा देयो
दानियाँ दी सूचि नाम दर्ज करा देयो,
मंजिला तो कदे नहियो दूर होना चाहिदा,
जुनाग्ड शहर सिद्ध नाथ दा,
मंदिर जरुर होना चाहिदा,
घर विच पौनाहारी नाथ दा………

Leave a Reply