गौरा समझावां तैनू सच मैं बतावा
सारा नक्शा बतावा उसदा
ओह्दियाँ एह निशानियाँ

ओ डर लगदा ऐ नाले दिल कंभ दा ऐ,
करके याद कहानियां
गोरा समजावा तेनु ……….

गल शरधा दी माला तेरा लाडा है काला
सारे जग नालो वखरा ओहदा रूप निराला
नि ओह भंगा खांदा नाले रगड़े लाउंदा,
ओह्दियाँ अखा मस्तानिया
गौरा समझावां तैनू ………

ओहदा चिटा है दाडा ओह ते बन गया ऐ लाडा
ओहदे सिर उते लबदा नहियो वाल इक काला
नी तेरी बाल्डी उमर ऐ पन्दरा साल दी
तेरिया अल्ड जवानिया
गौरा समझावां तैनू …

ओहदे हार कोई ना शिंगार कोई ना
पाउंदा मुंडा दी माला उते ओह मिर्ग्शाला
तन ते भसम रमाये मथे चन चड़ाए,
वगदी गंगा महा रानिये,
गौरा समझावां तैनू ……….

सो साल दा लगदा तेरे नाल ही फबदा,
नि गोरा ओह ता तेरे नाल नही सजदा
नी ओहनू आये बुडापे ओ ते बुडापा जापे
ओह्दियाँ हडियाँ ने पुरानिया
गौरा समझावां तैनू ……..

ओह प्रेमी ते संगी जिहदे नाल तू मंगी
नी गोरा तेरे नाल किसी ने किती न चंगी
हूँ कुछ सोच गोरा कर कुछ गोर गोरा
तेरे नाल होइयां बेईमानिया
गौरा समझावां तैनू ……

Leave a Reply