gali de vicho shyam lagniyan meri khul gai patak deke aakh ni

मेरी खुल गयी पटक देके आख नी
गली दे विचो श्याम लँगीया
श्याम लँगीया गली दे विचो श्याम लँगीया

ऐथो ग्वाले रोज है लांगदे
रोज लांगदे ते ज़रा वी नी खांगदे
असा लन्गना जमाने नालो वाख नी
गली दे विचो श्याम लँगीया
मेरी खुल……..

आज बोल्दा बनेरे उत्ते काग नी
श्याम आयेगा साडे वी घर नी
मैं ता तका राह चक चक नी
गली दे विचो श्याम लँगीया
मेरी खुल……..

एह ता लांगदा होर किथे खांगदा
औन्दा जानदा माखन है मांगदा
मैनू कहन्दा है चोर है शाक दा
गली दे विचो श्याम लँगीया
मेरी खुल……..

Leave a Comment