शाहतलियाँ गुफा विच दे बैठा कोई जोगी,
जद जोगी नु मैं सी तकिया मैं दीवानी होगी,
एह ता सोहना जेहा कौन जोगी निका जेहा,

जोगी मेरे दी की है निशानी सोहनियाँ जटावा रे रूप नूरानी,
ओह ता बोहड़ा हेठा रेह्न्दा जोगी निक्का जेहा,

पौणाहारी दा रूप निराला हाथ विच चिमटा सींगिया वाला,
ओह ता धुना लाके बेहंदा जोगी निक्का जेहा,

जोगी मेरे दी सूरत भोली पैरी खडावा मोड़े झोली,
ओह ता गरुणा झाडी बेहंदा जोगी निक्का जेहा,

जोगी मेरे दी कहा मैं कहानी गाऊआ चरामे उम्र न्यारी ,
ओह ता माँ रत्नो दा लाल जोगी निक्का जेहा,

निशा निश दिन गुण तेरा गावे बाबा जी दिया भेटा सुनावे,
ओह ता कॉल गिरी रेह्न्दा जोगी निक्का जेहा,

Leave a Reply