भर लवो झोलियाँ जी भर लवो झोलियाँ,
वंडदा मुरादा अज जोगी पौनाहारीया,
सदा खुले रहंदे ने दुआरे दुधाधारी दे,
दुःख कटे जांदे ने गुफा ते पौनाहारी दे,

भरे ने भंडारे जोगी दे दर कोई थोड न,
बाबे जेहा दानी कोई जग उते होर न,
तहियो ता लगदे जयकारे सिंगियाँ वाले दे,
दुःख कटे जांदे ने …

बड़े बड़े जानी आ के दान बाबे तो मंगदे,
उचियाँ उचियाँ शाना वाले शान जोगी तो मंगदे,
बन गये ने भगत प्यारे चिमटे वाले दे.
दुःख कटे जांदे …

महिमा जोगी दी कवि लिखे गला सचियाँ,
प्रीता भगता ने पाइयां जोगी ने नाल पकियां,
जेहना ने तक ले सहारे धुनें वाले दे,
दुःख कटे जांदे ने …

Leave a Reply