जदो भजदा बदल वांगु गज दा डमरू शंकर दा,
डम डम डम वज्दा डमरू शंकर दा,

अम्ब्रा ते वजेया पताल विच सुनियाँ तीनो लोक सारिया जहां विच सुनिया,
ऐसे ताल च भजदा डमरू शंकर दा.
डम डम डम वज्दा डमरू शंकर दा,

वजे जड़ों डमरू कमाल करि जांदा है,
मस्ती दे रंग विच निहाल करि जांदा है,
सब दे पर्दे कज दा डमरू शंकर दा,
डम डम डम वज्दा डमरू शंकर दा,

डमरू ने मस्त मलंग कर छड़िया,
सोनू ते फकीरी वाला रंग कर छड़िया,
विच तिरशूल दे सज दा डमरू शंकर दा,
डम डम डम वज्दा डमरू शंकर दा,

शिव भजन

Leave a Reply