छोड़ेंगे अब ना दर तेरा इकरार कर लिया है

दिले में ना जाने सतगुरु क्या रंग भर दिया है
छोड़ेंगे अब ना दर तेरा इकरार कर लिया है

जिस दिन से पी लिया है तेरे नाम का यह प्याला,
मुझको खबर नहीं है, मेरा दिल किधर गया है ।
छोड़ेंगे अब ना दर तेरा…

तूने हाथ जिसका थामा, बाँदा बना प्रभु का,
हुई नज़र जिस पे तेरी, समझो के तर गया है ।
छोड़ेंगे अब ना दर तेरा…

तेरी चरण धूलि जब से मस्तक को छू गयी है,
मेरी तकदीर बदल गयी है, जीवन सवार गया है ।
छोड़ेंगे अब ना दर तेरा…

dil me na jane satguru kya rang bhar diya hai

dile me na jaane sataguru kya rang bhar diya hai
chhodenge ab na dar tera ikaraar kar liya hai

jis din se pi liya hai tere naam ka yah pyaala,
mujhako khabar nahi hai, mera dil kidhar gaya hai .
chhodenge ab na dar teraa…

toone haath jisaka thaama, baanda bana prbhu ka,
hui nazar jis pe teri, samjho ke tar gaya hai .
chhodenge ab na dar teraa…

teri charan dhooli jab se mastak ko chhoo gayi hai,
meri takadeer badal gayi hai, jeevan savaar gaya hai .
chhodenge ab na dar teraa…

Watch Video dil me na jane satguru kya rang bhar diya hai Bhajan Lyrics

2 Comments

Leave a Reply