धन तू है धन है कमाई जोगिया,
वे तेरे वरगी ना देखी करामात,
साडी नगरी च फेरा पाई मालका/दातियाँ,
वे किते रेहमता दी होवे बरसात,
धन तू है धन है कमाई जोगिया

जनम लिया तू घर लक्ष्मी वेचारी दे,
आ के जोगी पलियां तू रतनो लुहारी दे,
भेत तेरा ना ओहना पाइयां मालका वे,
ना ही समजी फकीरा वाली बात,
धन तू है धन है कमाई जोगिया….

गोरख लै तू घर लक्ष्मी वेचारी दे,
आ के जोगी पलियां तू रत्नों लुहारी दे,
भेत तेरा ना ओहने पाइयां मालका वे,
ना ही समजी फकीरा वाली बात,
धन तू है धन है कमाई जोगिया

सची सूची देखी जोगी एक तेरा आत्मा,
अंग संग रहे तेरे भोले परमात्मा,
पाली आते सिंदर वी नाम जपदे,
भेटा गाई जाइए सारी सारी रात,
धन तू है धन है कमाई जोगिया

Leave a Reply