devta bhi swarath the dode amrit ke liye

देवता भी स्वार्थी थे दौड़े अमृत के लिए,
हम सदा उनको भजेंगे जो जहर हंस के पिए,
हम नमन उनको करेंगे जो जहर हंस के पिए,

जो रहे अमृत के पीछे सोचो वो क्या देव है,
जगत के खातिर विष पिया जो वो बने महादेव है,
हम नमन उनको करेंगे,
जो सदा सबको दिए हम सदा उनको भजेंगे,
जो जहर हंस के पिए…

औरो के खातिर जगत में सब नहीं जी सकते है,
जो है अविनाशी अजन्मा जहर वही पी सकते है,
हम नमन उनको करेंगे
जो मरे ना ना जिए, हम सदा उनको भजेंगे,
जो जहर हंस के पिए……