darsh do girdhaari banvaari shyam meri biti umariyan saari

दरस दो गिरधारी बनवारी
श्याम मेरी बीती उमरिया सारी

अब बहुत हुयी हेरि फेरी
अलके बिखराके आजाओ

अब बहुत हुयी मम मान सखी
मुस्कान लुटाते आजाओ

अब बहुत हुयी रसिया प्रीतम
लोगो को हसाते आजाओ

अब बहुत हुयी चीत्चोर सजन
बंसी को बजाते आजाओ

अब बहुत हुयी अब दीन बन्दू
बिगड़ी को बनाने आजाओ

अब बहुत हुयी करुणा सिन्धु
करुणा बरसाने आजाओ

अब बहुत हुयी हे परान नाथ
मेरे परान बचाने आजाओ

दरस दो गिरधारी बनवारी
श्याम मेरी बीती उमरिया सारी

Leave a Comment