बाबा तेरी दया पे ही पलता परिवार मेरा,
कैसे भूलूगा बता मैं ये उपकार तेरा,
बाबा तेरी दया पे ही पलता परिवार मेरा,

न भय न चिंता कोई बड़ी मौज करि तूने,
खाली झोली मेरी खुशियों से भरी तूने,
तेरी किरपा से हुआ जीवन में सवेरा,
बाबा तेरी दया पे ही पलता परिवार मेरा,

ना किसी काम का था ना कोई इज्जत थी,
मेरे अपनों को भी ना मेरी जरूत थी,
किस्मत की उलटी चा को तूने ही फेरा,
बाबा तेरी दया पे ही पलता परिवार मेरा,

इतनी खुशिया दे कर बाबा दूर न जाना तू,
चाहे गम हो चाहे ख़ुशी मेरे साथ ही रहना तू,
रूबी रिधम से प्रभु कभी रिश्ता न टूटे तेरा,
बाबा तेरी दया पे ही पलता परिवार मेरा,

Leave a Reply