baba majiyan charonda disda hai pani kheta nu launda disda hai

हो किरत करो ते वंड छको दा लाया होका,
एह सोच सची करतार दी है,
है इक दिन पानी धरती ने मुक जाना,
क्यों साइंस चल पई मार दी है,
एह सोहने रंगी धरती उते सोहना ही उगना ऐ,
कदों किरत दे सूरज ने हाये ढोब्या ढूबना ए,
कोई स्यासत वटा उते अक नि ला सकदी,
गुरु नानक दे खेता चो बरकत नी जा सकदी,

बाबा मझियां चरोंदा दिसदा ऐ,
पानी खेता नु लौंदा दिसदा ऐ
हट सच दी च्लौन्दा दिसदा ऐ,
नाले लंगर छकोंदा,
लंगर छकोंदा दिसदा ऐ,
बाबा मझियां चरोंदा दिसदा ऐ,

रुख कदे न वड़ो ते न मारो धियाँ नु,
मेहने मिलदे रहने आ सरहंद दियां नीहा नु,
कोई वीत कोकियाँ वालियां बदली मत नि जा सकदी,
गुरु नानक दे खेता चो बरकत नि जा सकदी,

क्यों नि बन्दिया करदा पासे पाप पखंडा नु,
सिर ते चकी फिरदा क्यों भरमा दिया पंडा नु,
कदे वि चकी सिर तो रब दी छत नि जा सकदी,
गुरु नानक दे खेता चो बरकत नि जा सकदी,

बाबा मझियाँ चरौंदा

Leave a Comment