दुःख कट दुनिया दे वंड खुशियाँ खेड़े,
अरदास मालका चरना विच तेरे जपो,

मेनू प्यार करन दी दाता जांच सिखा दे,
कदे वैर इरखा ना मन विच आवे,
यो दूर ने तेथो आ जावन नेड़े,
अरदास मालका चरना विच तेरे जपो,

सारी दुनिया दे विच कोई गरीब न हॉवे,
ना कोई एसा जिहनू रोटी नसीब न हॉवे,
रहमत करी गुरु नानक मेरी,
अरदास मालका चरना विच तेरे जपो,

जिस घर छा हैनी उस घर रुख होजे,
जिस घर पूत है उस घर पूत होजे,
सदरा पुरियां करी गुरु मेरे,
अरदास मालका चरना विच तेरे जपो,

Leave a Reply