आये मैया नवराते होने रोज जगराते,
मेला लग दा है हर वार रोनका लगिया ने,
मेरी मैया दे दरबार रोनका लगियाँ ने,

सोहने सोहने मंदिरा ते लाल झंडियां,
खुशियां ने चारो पास दाती तू वंडियां,
देदे भगता नु मावा वाला प्यार रोनका लगियाँ ने,

भगत माँ तेरे वरीया दा लगाया है मेल.
कर दे तू पूरियां मुरादा लेके आये ने,
आज सारिया ते कर उपकार रोनका लगियाँ ने,

खनने वाले लाड़ी नु माँ दई मशहुरियां ,
मनता दिनेश दियां कर दी पूरियां,
साहनु दर्श दिखा इक बार रोनका लगियाँ ने,

Leave a Reply