aaya hai tu yahaa se to jaana hi padega

आया है तू यहाँ से तो जाना ही पडेगा,
जो दुःख दिया दुःख तुझे पाना ही पड़ेगा,
आया है तू यहाँ से जाना ही पडेगा

जन्म जब लिया तो खुशिया है तेरे घर में
दुनिया के रिश्ते तेरे वसने लगे मन में,
तू हु बड़ा तो एहंकार हो गया ,
दुनिया की नफरत का तू शिकार हो गया,
नाते रिश्ते तुझको बुलाना ही पड़े गा,
आया है तू यहाँ से जाना ही पडेगा

फिर याहा इक दिन तेरा परिवार हो गया ,
फिर नइ दुनिया से तुझे प्यार हो गया,
जैसी करनी तू करे वैसा ही अब भरे,
तेरे बचे भी है तुझे छोड़ कर चले,
कभी रोना तो कभी गाना भी पड़े गा,
आया है तू यहाँ से जाना ही पडेगा

आया भूड़ापा तेरे माँ बाप के जैसा,
सबक मिला तुझको वही तूने किया जैसा ,
कर्म भी किया करि है खूब कमाई,
तेरी ही संतान तेरे काम ना आई,
दुनिया से मुँह मोड़ के जान ही पड़े गा,
आया है तू यहाँ से जाना ही पडेगा

हो गई तयारी तेरी टोली मुसाफिर,
कुछ नहीं बचा तेरा इस दुनिया में आखिर,
दुनिया को कदमो से नापने वाले तू सो गया बुल कर के तू प्यार ये गठ में
कभी रोना तो कभी गाना भी पड़े गा,
आया है तू यहाँ से जाना ही पडेगा

1 thought on “aaya hai tu yahaa se to jaana hi padega”

  1. Pingback: latset psost froms pppage site – ppage

Leave a Comment