aasro mahne thaaro hai thare bharose betha baba koi na maharo hai

आसरो म्हाने थारो है,
थारे भरोसा बैठा बाबा कोई न माहरो है,
आसरो म्हाने थारो है …

नैया मेरी अटक गई है,
थोड़ी थोड़ी चटक गई है,
मझधारा में अटक गई है,
दारामदार संवारा इब तो,ता पर सारो है,
आसरो म्हाने थारो है…

हाथ पकड़ ले दुब न जाऊ,
रो रो ठाणे आज भुलाऊ,
मेरे मन की पीड़ सुनाऊ,
के ना सुनो तो डूब ही जाऊ,
आसरो म्हाने थारो है….

हरष संवारा लाज बचा ले,
चरना माहि आज बचा ले,
टाबरियां ने गले लगा ले,
सेठ संवारा हाथ थाम ले,
तेरो सहरो है,
आसरो म्हाने थारो है ..

Leave a Comment