aagi chalke hawaaye tere diwane tak ab yehi leke chle gi mujhe barsane tak

आगई चलके हवाए तेरे दीवाने तक,
अब येही लेके चले गी मुझे बरसाने तक,
आगई चलके हवाए …….

तुझको मैं भूले से भी भूल सकू न मुंकिन,
ये ताल लुक तो रहे मेरे मर जाने तक,
अब येही लेके चले गी मुझे बरसाने तक,
आगई चलके हवाए …….

मौत पर हक़ है मगर आखिरी ख्वाइश ये है,
साँस चलती रहे मेरी तेरे आ जाने तक,
अब येही लेके चले गी मुझे बरसाने तक,
आगई चलके हवाए …….

तुम तो अपने ये न थी तुमसे उम्मीद हमें,
कोई मरता हो तो आ जाते है बेगाने तक,
अब येही लेके चले गी मुझे बरसाने तक,
आगई चलके हवाए …….

किशोरी दास को आनंद तेरे नाम से है,
लाल रोता है माँ की गोद में सो जाने तक,
अब येही लेके चले गी मुझे बरसाने तक,
आगई चलके हवाए …….

Leave a Comment