aa shyama ghar mere tu shyama ghar mere

आ श्यामा घर मेरे तू श्यामा घर मेरे
साडे सुने है गलिया वेडे तू श्यामा घर मेरे

मथुरा दे विच जाके वस गये
भजन करो एह सानू दस गये
सातो जान्दे ना मन के फेरे
आ…….

कमली वालिया मैं कमली होई
तेरे जेहा सानू होर ना कोई
तैनू साडे वरगे बथेरे
आ…….

दुरो चिठिया पानदे सानू
साग दे नाल रजनदे सानू
कुछ होवे ते दाइये नेडे
आ……..

दुरो कह देना तू जाके
जो कुछ दस्ना दस दे आके
सानू दुरो ना चिठिया गेरे
आ……

Leave a Comment