यही सोच हम अपने दोनों नैन भिगोते हैं,

मैया तेरी तस्वीर सिरहाने रखकर सोते हैं,
यही सोच हम अपने दोनों नैन भिगोते हैं,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मईया पिघलोगी…


जाने कब आ जाओगी , मैं आँगन रोज बुहारता ,
मेरे इस छोटे से घर का कोना कोना सँवारता,
मेरी माँ जगदम्बे, माँ शेरावाली,
जिस दिन माँ नहीं आती हम जी भर कर रोते हैं,
यही सोच हम अपने दोनों नैन भिगोते हैं,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मईया पिघलोगी…

अपनापन हो अँखियों में, होठों पे मुस्कान हो,
ऐसे मिलना जैसे की माँ, जन्मों की पहचान हो,
मेरी माँ जगदम्बे, माँ शेरावाली,
आपके खातिर अँखियाँ मसल मसल कर रोते हैं,
यही सोच हम अपने दोनों नैन भिगोते हैं,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मईया पिघलोगी…

इक दिन ऐसी नींद खुले, जब माँ का दीदार हो,
बनवारी फिर हो जाए, ये अँखियाँ बेकार हो,
मेरी माँ जगदम्बे, माँ शेरावाली,
बस इस दिन के खातिर हम तो दिन भर रोते हैं,
यही सोच हम अपने दोनों नैन भिगोते हैं,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मईया पिघलोगी…

मैया तेरी तस्वीर सिरहाने रखकर सोते हैं,
यही सोच हम अपने दोनों नैन भिगोते हैं,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मईया पिघलोगी…

maiya teri tasveer sirahaane rkhakar sote hain,

maiya teri tasveer sirahaane rkhakar sote hain,
yahi soch ham apane donon nain bhigote hain,
kbhi to tasveer se nikalogi, kbhi to meri meeya pighalogi…


jaane kab a jaaogi , mainaangan roj buhaarata ,
mere is chhote se ghar ka kona kona sanvaarata,
meri ma jagadambe, ma sheraavaali,
jis din ma nahi aati ham ji bhar kar rote hain,
yahi soch ham apane donon nain bhigote hain,
kbhi to tasveer se nikalogi, kbhi to meri meeya pighalogi…

apanaapan ho ankhiyon me, hothon pe muskaan ho,
aise milana jaise ki ma, janmon ki pahchaan ho,
meri ma jagadambe, ma sheraavaali,
aapake khaatir ankhiyaan masal masal kar rote hain,
yahi soch ham apane donon nain bhigote hain,
kbhi to tasveer se nikalogi, kbhi to meri meeya pighalogi…

ik din aisi neend khule, jab ma ka deedaar ho,
banavaari phir ho jaae, ye ankhiyaan bekaar ho,
meri ma jagadambe, ma sheraavaali,
bas is din ke khaatir ham to din bhar rote hain,
yahi soch ham apane donon nain bhigote hain,
kbhi to tasveer se nikalogi, kbhi to meri meeya pighalogi…

maiya teri tasveer sirahaane rkhakar sote hain,
yahi soch ham apane donon nain bhigote hain,
kbhi to tasveer se nikalogi, kbhi to meri meeya pighalogi…

Watch Bhajan Video maiya teri tasveer sirahaane rkhakar sote hain

Leave a Reply