जब से मन तेरे संग लगा है,

दुनिया से मोह भंग हुआ है,
जब से मन तेरे संग लगा है,
दुनिया से मोह भंग हुआ है,
जब से मन तेरे संग लगा है…


भूल गया हूँ दुनियादारी तुमको पाके,
अब और कही ना जाउ तेरे दर पे आके,
क्यों रूठे हो भोले हमको ये तो बताना,
दुनिया से मोह भंग हुआ है,
जब से मन तेरे संग हुआ है…

देखा है हमने हर एक नजारा,
पर देखा ना कुछ तुमसे प्यारा,
दूजा रंग चढ़े ना मुझपे,
जबसे तेरा रंग चढ़ा है,
दुनिया से मोह भंग हुआ है,
जब से मन तेरे संग हुआ है…

दर्शन से तेरे मन खिल जाता,
भक्त मनचाहा फल है पाता,
तेरी भक्ति का तो उमंग जगा है,
दुनिया से मोह भंग हुआ है,
जब से मन तेरे संग लगा है…

दुनिया से मोह भंग हुआ है,
जब से मन तेरे संग लगा है,
दुनिया से मोह भंग हुआ है,
जब से मन तेरे संग लगा है…

jab se man tere sang laga hai,

duniya se moh bhang hua hai,
jab se man tere sang laga hai,
duniya se moh bhang hua hai,
jab se man tere sang laga hai…


bhool gaya hoon duniyaadaari tumako paake,
ab aur kahi na jaau tere dar pe aake,
kyon roothe ho bhole hamako ye to bataana,
duniya se moh bhang hua hai,
jab se man tere sang hua hai…

dekha hai hamane har ek najaara,
par dekha na kuchh tumase pyaara,
dooja rang chadahe na mujhape,
jabase tera rang chadaha hai,
duniya se moh bhang hua hai,
jab se man tere sang hua hai…

darshan se tere man khil jaata,
bhakt manchaaha phal hai paata,
teri bhakti ka to umang jaga hai,
duniya se moh bhang hua hai,
jab se man tere sang laga hai…

duniya se moh bhang hua hai,
jab se man tere sang laga hai,
duniya se moh bhang hua hai,
jab se man tere sang laga hai…

Leave a Reply