ओ मुरली वाले तेरा प्यारा लगे धाम,
तेरा मनमोहन है नाम तेरा खाटू में है धाम,
तेरा प्यारा लागे नाम,

मै मूरख तेरा भेद न जानू कैसे तुम्हे रिजाऊ,
ध्यान तू मुझको ऐसा देदे मैं तेरा बनi जाऊ,
कोई जग में न मेरा इक सहारा है तेरा,
मुझको लागि तेरी लगन,
ओ मुरली वाले………….

सब ने मुझको है ठुकराया कोई ना अपना बनाया,
भटक भटक दर मैं तो भगवन द्वार तुम्हारे आया,
कोई जग में ना मेरा एक सहारा है तेरा मुझको लागि है तेरी लगन ,
ओ मुरली वाले………….

छूट गई आशा पूनम की भूल गये सब अपने
बिन्नू रूठ गये क्यों भगवन तुम ही हो प्रभु अपने,
कोई जग में ना मेरा इक सहारा है तेरा मुझको लागी है तेरी लग्न,
ओ मुरली वाले………….

Leave a Reply