mope kardo kirpa mope kardo deya

मोपे करदो किरपा मोपे करदो देया,
मेरी करुनामाई मोपे करदो किरपा,
तेरे धाम आ गया लेके नाम आ गया,
तेरी चौकठ पे आके आराम आ गया,

किरपा कर लाड़ली झोली भर लाड़ली,
शीश मेरे किरपा हाथ धर लाड़ली ,
तुम दयालु बड़ी हो किरपालु बड़ी,
तेरे दर पे खड़ी आस तेरी करि,
मोपे करदो किरपा मोपे करदो देया,

माया में चूर मैं तुमसे दूर मैं,
बिगड़े कर्मो के कारण हु मजबूर मैं,
समावणी है श्यामा करदो अब के छमा,
मिट जाए त्मा करू भजन जमा,
मोपे करदो किरपा मोपे करदो देया,

मेरी औकात क्या मुझपे बात क्या अंसियो से बढ़ कर सौगात क्या,
कृष्ण बृषभानु लल्ली करती हो भली अपनालो गोपाली पागल को वही,
मोपे करदो किरपा मोपे करदो देया,

Leave a Comment