main to hui deewani sun lo ji chit chor kanhiya ki

राधा संग जो यमुना तट पे रास रचाता है
ग्वाल बाल संग चोरी चोरी माखन खाता है
जिसका मुखड़ा चाँद का टुकड़ा छवि बेजोर कन्हियाँ की
मैं तो हुई दीवानी सुन लो जी चित चोर कन्हियाँ की,

तेरी बांकी टेडी चितवन कान्हा हम पे जादू डाल गई
जब से देखा तुम को छलिये दिल ये अपना हार गई
मैं यहा भी देखू दिखे छवि हर और कन्हिया की
मैं तो हुई दीवानी सुन लो जी चित चोर कन्हियाँ की,

सझ धज कर नटखट नैंनों के तीर चलता है
फिर बांकी अदा से मंद मंद ऐसे मुस्काता है
एक नजर करे घ्याल माखन चोर कन्हिया की
मैं तो हुई दीवानी सुन लो जी चित चोर कन्हियाँ की,

जिस के अधरों पे रहती मुरली जादू गारी
भीम सेन जिस की दीवानी है दुनिया सारी,
सब झूमे जब मुरली बाजे घन घोर कन्हिया की
मैं तो हुई दीवानी सुन लो जी चित चोर कन्हियाँ की,

Leave a Comment