jis haal me rakhoge us haal me reh lenge

जिस हाल में रखोगे उस हाल में रह लेंगे,
चाहे खुशियां मिले या गम हस हस के सेह लेंगे,
जिस हाल में रखोगे……..

बड़ी मुदत से हमने पाया है प्रभु तुम को,
लाखो ठोकर खाई कई ताने मिले हमको,
बस तुझपे भरोसा था दुःख मेरे हर लेंगे,
जिस हाल में रखोगे …………

तकदीर के ताले जब मेरे थे गर्दिश में,
दुनिया हस्ती मुझपे रहते थे बंदिश में,
अब साथ मेरे है तू दुनिया से कह देंगे,
जिस हाल में रखोगे….

तुम को नहीं छोड़े गे जब तक है सांस मेरी,
नहीं जग की है परवाह बस एक है आस मेरी,
तेरे श्याम को है विशवाश दर्शन तेरा कर लेंगे,
जिस हाल में रखोगे….

Leave a Comment